दिल्ली देहात से….

हरीश चौधरी के साथ….

यूपी खिलाड़ियों का संगम बन गया है: खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स का उद्घाटन करने के बाद पीएम मोदी -दिल्ली देहात से

यूपी खिलाड़ियों का संगम बन गया है: खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स का उद्घाटन करने के बाद पीएम मोदी
-दिल्ली देहात से

[ad_1]

यह घोटाला 2010 में कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार के दूसरे कार्यकाल के दौरान सामने आया था।

पीएम मोदी ने कहा, “हमारे गांव देहात के बच्चों को खेलने का मौका मिला, इसके लिए पहले एक योजना चलाई गई थी कि पंचायत युवा क्रीडा खेल अभियान लेकिन बाद में इसका नाम शिकायत राजीव गांधी खेल अभियान दिया गया। इस अभियान में भी सिर्फ ध्यान है नाम बदलने को लेकर था, देश के खेल के बुनियादी ढांचे को बदलने को लेकर नहीं दिखाया गया था।”

प्रधान मंत्री मोदी ने अपने शातिर इंडिया विश्वविद्यालय के खेल में भाग लेने वाले खिलाड़ियों को शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि उपर का सांसद होने के नाते निकट में आने वाले सभी लोगों का स्वागत करता हूं।

उन्होंने कहा, “इन मैचों का खुलासा होने से यूनिवर्सिटी में खेल का माहौल बदलेगा और ये खेल उत्सव देश को नई स्थिति पर ले जाएगा। आज उपर में देश की खेल प्रतिभा का संगम बना है। पहले हमने कई इंडिया गेम की शुरुआत की। अब एक्सचेंज इंडिया विंटर गेम्स की भी शुरुआत हो गई है।”

पीएम मोदी ने प्रदेश सरकार की आकांक्षा जताते हुए कहा, “उप्र में खेलों के विकास को लेकर बेहतरीन काम हो रहा है। इन मैचों का समापन मेरे निर्वाचन क्षेत्र में होगा और मैं इसका इंतजार कर रहा हूं। ऐसी स्थिति टीम भावना को विकसित करती है।” करने में मदद करते हैं और विभिन्न राज्यों के खिलाड़ियों के बीच सांस्कृतिक रहस्य-चमत्कार में दीप्तिमान होते हैं।”

इस साल इंडिया यूनिवर्सिटी गेम 25 मई से तीन जून तक उत्तर प्रदेश में आयोजित किए जा रहे हैं। इन मैचों में 4750 से अधिक एथलीट 21 मैचों में 200 से अधिक योगों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।

खेल वाराणसी, गोरखपुर, लखनऊ और गौतम बुद्ध नगर में आयोजित किए जा रहे हैं। खेलों का शुभंकर जीतू बारहसिंघा है जो उत्तर प्रदेश का राज्य है। खेलों का समापन बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) वाराणसी में तीन जून को होगा।

पीएम मोदी ने कहा कि पिछले नौ साल में भारत में खेलों का एक नया युग शुरू हुआ है. ये नए युग विश्व में भारत को एक खेल शक्ति बनाने का ही नहीं है, ये खेलों के माध्यम से समाज के सशक्तिकरण का भी नया दौर है। उन्होंने कहा कि हमारी राष्ट्रीय शिक्षा नीति में खेलों को एक विषय के रूप में पढ़ाया जाना प्रस्तावित है।

उन्होंने आगे कहा कि पहले की ड्रामे ने 6 साल में सिर्फ 300 करोड़ रुपये की तारों की छलांग पर खर्च किए थे, जबकि दलाल इंडिया के तहत अब खेल के शेयरों में 3000 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं।

12 मैच (तीरंदाजी, जूडो, मल्लखंब, वॉलीबॉल, तलवारबाजी, मेज टेनिस, रग्बी, एथलेटिक्स, हॉकी, फुटबॉल की मेजबानी करेगा)। गौतम बुद्ध नगर (नोएडा) तीन स्थानों में पांच मैच (नोएडा)। बेसबॉल, कबड्डी, बॉक्सिंग, तैराकी और भारोत्तोलन) की मेजबानी की जाएगी।

वाराणसी अनुबंध-बीएचयू, दो मैचों (कुश्ती और योगासन) की मेजबानी करेगा, जबकि गोरखपुर और दिल्ली क्रमशः नौका और निशानेबाजी का स्थान होगा।

नौकायन पहली बार इन मैचों में शामिल हुआ है।

उद्घाटन के अवसर पर मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ, केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर, केंद्रीय खेल राज्य मंत्री निसिथ प्रमाणिक सहित प्रदेश के सभी मंत्री और अधिकारी मौजूद थे।

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एंडीटीवी टीम ने विरोध नहीं किया है, यह सिंडीकेट से सीधे प्रकाशित किया गया है।)

[ad_2]