दिल्ली देहात से….

हरीश चौधरी के साथ….

छंटनी से प्रभावित, हजारों भारतीय आईटी पेशेवर अमेरिका में रहने के लिए संघर्ष – आईटी सेक्टर से निकाले गए हजारों भारतीय कर्मचारी, अब अमेरिका में रहने के लिए हो रहे परेशान -दिल्ली देहात से


‘द डायरेक्टर पोस्ट’ के अनुसार पिछले साल नवंबर से इसके क्षेत्र के करीब 2,00,000 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया गया है, जिनमें से रिकॉर्ड संख्या में समीक्षक प्राधिकरण में Google, Microsoft, Facebook और Amazon हैं।

उद्योग के सूत्र ने बताया कि प्रशासन से निकाले गए लोगों में से 30 से 40 प्रतिशत भारतीय आईटी पेशेवर हैं, जिनमें से बड़ी संख्या में एच-1बी या एल1 वीजा पर यहां लोग आए हैं। अब ये लोग अमेरिका में रहने के लिए विकल्प की तलाश में हैं। नौकरी जाने के बाद विदेशी कार्यवाहक वीजा के तहत मिलने वाले कुछ महीनों की निर्धारित अवधि में नए रोजगार तलाशने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, ताकि उनकी वीजा स्थिति को भी बदल सके।

अमेज़ॅन में काम करने के लिए गीता (नाम संशोधित) तीन महीने पहले यहां आए थे। इस हफ्ते उन्हें बताया गया कि 20 मार्च को उनके कार्यकाल का आखिरी दिन होगा। H-1B वीजा पर अमेरिका ने एक अन्य आईटी पेशेवर को Microsoft ने 18 जनवरी को बाहर का रास्ता दिखाया। वह कहते हैं, ”स्थिति बहुत खराब है।”

जो लोग एच-1बी वीजा पर यहां आए हैं, उनकी स्थिति और भी विकट है; क्योंकि उन्हें 60 दिन के भीतर नई नौकरी मिल जाएगी या फिर भारत लौटना होगा।

सिलिकॉन वैली में व्यवसायी और सामुदायिक नेता अजय जैन भूतोड़िया ने कहा, ”यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि प्रौद्योगिकी के हजारों कर्मचारियों को नौकरी से निकाला जा रहा है, विशेष रूप से एच-1बी वीजा पर आए लोगों के लिए तो कुछ खास और बड़े भी हैं, क्योंकि उन्हें नौकरी जाने के 60 दिन के भीतर नया रोजगार अस्पष्ट है और अपना वीजा स्थानांतरित कर देना है या फिर देश से जाने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।”

ग्लोबल इंडियन टेक्नोलॉजीज एसोसिएशन (जीपीआरओ) और फाउंडेशन फॉर इंडिया एंड इंडियन डायस्पोरा स्टडीज (एफआईआईडीएस) ने अपने पेशेवरों की मदद करने के लिए रविवार को एक समुदाय की शुरुआत की। एफआईडीएस के खांडेराव कंद ने कहा, ”प्रौद्योगिकी उद्योग में बड़े पैमाने पर नौकरियों में छंटनी के कारण जनवरी 2023 प्रौद्योगिकी क्षेत्र के पेशेवरों के लिए बहुत मुश्किल है। कई प्रतिभाशाली लोगों की नौकरी चली गई। प्रौद्योगिकी उद्योग में भारतीय निगमन की संख्या अच्छी खासी होने की वजह से वे सबसे ज्यादा प्रभावित भी हुए हैं।”

एच-1बी वीजा धारकों को नौकरी जाने के बाद 60 दिनों के भीतर एच-1बी दावा नौकरी खोजी जाती है या फिर स्तर खत्म हो जाने के दस दिनों के भीतर देश छोड़ दिया जाता है।

ये भी पढ़ें:-

Google, Microsoft, Facebook और अमेजन से निकाले गए भारतीय आईटी पेशेवर नई नौकरी पाने के लिए कर रहे हैं जद्दोजहद

“4 महीने का सेवरेंस पैकेज, नई नौकरी में मदद” : जानें- Google से निकाले जाने वाले कर्मचारियों को क्या-क्या मिलेगा?

Google में 12000 कर्मचारियों की खींच सही दिशा में है लेकिन… कितने कर्मचारियों को हटाने को कहा?

दिन का विशेष रुप से प्रदर्शित वीडियो

सरकारी कॉलेजियम सिस्टम पर क्यों उठा रहा है सवाल?