दिल्ली देहात से….

हरीश चौधरी के साथ….

गणतंत्र दिवस 2023 गणतंत्र दिवस पर अब तक कौन हमारे मेहमान बने हैं, देखें पूरी लिस्ट – गणतंत्र दिवस 2023: गणतंत्र दिवस पर अब तक कौन-कौन बने हमारे अतिथि, पढ़ें पूरी सूची -दिल्ली देहात से

गणतंत्र दिवस 2023 गणतंत्र दिवस पर अब तक कौन हमारे मेहमान बने हैं, देखें पूरी लिस्ट – गणतंत्र दिवस 2023: गणतंत्र दिवस पर अब तक कौन-कौन बने हमारे अतिथि, पढ़ें पूरी सूची
-दिल्ली देहात से

[ad_1]

पहली बार से लेकर अब तक यूरोपीय देशों से सबसे ज्‍यादा बार किसी गणतंत्र दिवस समारोह का प्रमुख अतिथि बनाया गया

नई दिल्ली: प्रमाण में 74वां गणतंत्र दिवस मनाया जा रहा है। इस साल मिस्त्रा के राष्ट्रपति (मिस्र के राष्ट्रपति) अब्देल फतह अल-सीसी (अब्देल फतह अल-सीसी) 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस की परेड में मुख्य मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हो रहे हैं। गणतंत्र दिवस परेड पर विदेशी को बुलाने की प्रथा वैसे तो प्रतीकात्मक होती है, लेकिन किसी देश के राष्ट्राध्यक्ष को बुलाने के पीछे कूदकर वैश्वक अनुपात में अब बदली भी है। आइए जानते हैं 1950 से अबतक कौन-कौन मेहमान बने हमारे गणतंत्र दिवस का गौरव।

यह भी पढ़ें

देश के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने जब 26 जनवरी 1950 को पहली बार गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान तिरंगा झंडा फहराया, तो इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो राज्य उस पल के साक्षी बने। 2021 और 2022 में कोरोना महामारी के कारण किसी राष्ट्राध्यक्ष को नहीं बुलाया गया। इसके अलावा 1952, 1953, 1956, 1957, 1959, 1962, 1964, 1966, 1967 और 1970 में कुल 10 बार किसी भी विदेशी मेहमान को गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि को आमंत्रित नहीं किया गया।

साल मुद्रीकरण के नाम
1950: राष्ट्रपति सुकर्णो (इंडोनेशिया)
1951: राजा त्रिभुवन बीर बिक्रम शाह (नेपाल)
1952: कोई आमंत्रण नहीं
1953: कोई आमंत्रण नहीं
1954: जिग्मेदोरजी वांगचुक (भूटान)
1955: गवर्नर जनरल मलिक गुलाम मुहम्मद (पाकिस्तान)
1956: राजकोष के कुलपति राय बटलर (यूनाइटेड किंगडम)
मुख्य न्यायाधीश कोटारो तनाका (जापान)
1957: रक्षा मंत्री जॉर्जिया जमाकोव (सोवियत संघ)
1958: मार्शल ये जियानिंग (चीन)
1959: एडिनबर्ग के ड्यूक प्रिंस फिलिप (यूनाइटेड किंगडम)
1960: अध्यक्ष क्लेमेंट वोरोशिलोव (सोवियत संघ)
1961: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय (यूनाइटेड किंगडम)
1962: प्रधानमंत्री विग्गो कंम्पमान (डेनमार्क)
1963: किंग नोरोडोम सिहानोक (कम्बोडिया)
1964: रक्षा स्टाफ के प्रमुख लॉर्ड लुईस माउंटबटन (यूनाइटेड किंगडम)
1965: भोजन और कृषि मंत्री राणा अब्दुल हमीद (पाकिस्तान)
1966: कोई आमंत्रण नहीं
1967: राजा मोहम्मद जहीर शाह (अफगानिस्तान)
1968: अध्यक्ष अलेक्सी कोसिगिन (सोवियत संघ)
राष्ट्रपति जोसीप ब्रोज टिटो (यूगोस्लाविया)
1969: प्रधानमंत्री टोडोर झिवकोव (बुल्गारिया)
1970: किंग बाउडाइन (बेल्जियम)
1971: राष्ट्रपति जूलियस न्येरे (तंजानिया)
1972: प्रधानमंत्री भिन्नोसगुर रामगुलाम (मॉरीशस)
1973: राष्ट्रपति मोबूतु से सेको (जारे)
1974: राष्ट्रपति जोसिप ब्रोज़ टिटो (यूगोस्लाविया)
प्रधान मंत्री सिरिमावो बंडरानाइक (श्रीलंका)
1975: राष्ट्रपति केनेथ कोंडा (जाम्बिया)
1976: प्रधानमंत्री जाक शिराक (फ्रांस)
1977: प्रथम सचिव एडवर्ड गिरेक (पोलैंड)
1978: राष्ट्रपति पैट्रिक हिलेरी (आयरलैंड)
1979: प्रधानमंत्री मैल्कम फ्रेजर (ऑस्ट्रेलिया)
1980: वैले प्रेसी गिस्कर्ड डी एस्टाइंग (फ्रांस)
1981: राष्ट्रपति जोस लोपेज पोर्टिलो (मेक्सिको)
1982: किंग जुआन कार्लोस आई (स्पेन)
1983: राष्ट्रपति शेहू शागरी (नाइजीरिया)
1984: किंग जिग्मे सिंग्ये वांगचुक (भूटान)
1985: राष्ट्रपति राउल अल्फोन्सिन (अर्जेंटीना)
1986: प्रधानमंत्री एंड्रियास पैपांड्रेउ (ग्रीस)
1987: राष्ट्रपति एलन गार्सिया (पेरू)
1988: राष्ट्रपति जेण आरण जयवर्धने (श्रीलंका)
1989: जनरल सेक्रेटरी गुयेन वैन लिन (वियतनाम)
1990: प्रधानमंत्री अनिरुद्ध जुग्नाथ (मॉरीशस)
1991: राष्ट्रपति मेमून अब्दुल गम (मालदीव)
1992: राष्ट्रपति मारियो सोरेस (पुर्तगाल)
1993: प्रधानमंत्री जॉन मेजर (यूनाइटेड किंगडम)
1994: प्रधानमंत्री गोह चोक टोंग (सिंगापुर)
1995: राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला (दक्षिण अफ्रीका)
1996: राष्ट्रपति डॉ. फर्नांडो हेनरिक कार्डोसो (ब्राजील)
1997: प्रधान मंत्री बासदेव पाण्डेय (त्रिनिदाद और टोबागो)
1998: राष्ट्रपति जैक शिराक (फ्रांस)
1999: राजा बिरेंद्र बीर बिक्रम शाह देव (नेपाल)
2000: राष्ट्रपति ओलेगुन ओबासांजो (नाइजीरिया)
2001: राष्ट्रपति अब्देलजीज बुटीफिला (अल्जीरिया)
2002: राष्ट्रपति शपथ उतेम (मॉरीशस)
2003: राष्ट्रपति मोहम्मद खटामी (ईरान)
2004: राष्ट्रपति लुइस इनासियो लुला दा सिल्वा (ब्राजील)
2005: किंग जिग्मे सिंग्ये वांगचुक (भूटान)
2006: किंग अब्दुल्ला बिन अब्दुल अजीज अल सऊद (सऊदी अरब)
2007: राष्ट्रपति व्लादिमीर व्लादिमीर (रूस)
2008: राष्ट्रपति निकोलस सरकोजी (फ्रांस)
2009: राष्ट्रपति नूरलस्तान नज़रबायेव (कजाकिस्तान)
2010: राष्ट्रपति ली म्युंग बाक (दक्षिण कोरिया)
2011: राष्ट्रपति सुसिलो बंबांग युधोयोनो (इंडोनेशिया)
2012: प्रधानमंत्री यिंगलुक शिनावात्रा (थाईलैंड)
2013: राजा जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक (भूटान)
2014: प्रधान मंत्री शिंजो आबे (जापान)
2015: राष्ट्रपति बराक ओबामा (संयुक्त राज्य अमेरिका)
2016: राष्ट्रपति फ्रेंकोइस हॉलैंड (फ्रांस)
2017: क्राउन प्रिंस शेख शेख जाइद अल नाहयान (संयुक्त अरब अमीरात)

2018 में सभी एशियाई देशों के प्रमुख मुख्य अतिथि शामिल हुए

थाईलैंड के प्रधान मंत्री जनरल प्रायुत चान ओचा
म्यांमार के सर्वोच्च नेता आंग सान सू की
ब्रुनेई के सुल्तान हसन अल बोलकिया
कंबोडिया के पीएम हुन सेन
इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो
सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सियान लूंग
मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब रजाक
वियतनाम के प्रधानमंत्री न्गुयेन शुयान फुक
ब्लूस के प्रधान मंत्री थोंगलून सिसोलिथिथ
फिलीपींस के राष्ट्रपति ड्रिगो दुतेर्ते

2019: दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सैरिल रामाफोसा
2020: ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो
2021: कोरोना की वजह से कोई राष्ट्रध्यक्ष शामिल नहीं हुआ
2022: कोरोना की वजह से कोई राष्ट्रध्यक्ष शामिल नहीं हुआ

2023 में अब्देल फतह अल-सीसी महानगरीय अतिथि हैं। एक मुस्लिम बहुल देश होने के कारण मिस्र और भारत की मित्रता काफी अहम भी है। इस देश के साथ 70 साल से ज्यादा की दोस्ती है। यह देश कई मौकों पर भारत के खिलाफ पाकिस्तान के दुष्प्रचार को नकार चुका है।

दिन का विशेष रुप से प्रदर्शित वीडियो

आज की बड़ी सुरखियां: 26 जनवरी, 2023

[ad_2]