दिल्ली देहात से….

हरीश चौधरी के साथ….

एनडीटीवी-सीएसडीएस सर्वेक्षण भारत पीएम मोदी शासन के तहत ग्लोबल पावरहाउस बन गया 54 प्रतिशत भारतीय सहमत – एनडीटीवी-सीएसडीएस सर्वे: पीएम मोदी के नेतृत्व में देश का मान बढ़ा, 55% लोग बोले- भारत विदेशी निवेश के लिए सबसे आकर्षित देश -दिल्ली देहात से

एनडीटीवी-सीएसडीएस सर्वेक्षण भारत पीएम मोदी शासन के तहत ग्लोबल पावरहाउस बन गया 54 प्रतिशत भारतीय सहमत – एनडीटीवी-सीएसडीएस सर्वे: पीएम मोदी के नेतृत्व में देश का मान बढ़ा, 55% लोग बोले- भारत विदेशी निवेश के लिए सबसे आकर्षित देश
-दिल्ली देहात से

[ad_1]

पीएम मोदी की लोकप्रियता के साथ-साथ इन तथ्यों को भी नजर अंदाज नहीं किया जा सकता है कि विदेश नीति के मामले में अब भारत की स्थिति की तुलना में कहीं ज्यादा ध्यान दिया गया है। हमारा मुल्क बहुत से देशों के साथ अपनी इच्छा और दावों के साथ समझौता कर रहा है। बड़े-बड़े मुल्क चाहकर भी भारत का विरोध नहीं कर पा रहे हैं। इसी मुद्दों को लेकर NDTV-CSDS सर्वे में भी कई सवालों पर भारत की जनता से राय ली गई. ज्यादातर के मुताबिक, पीएम मोदी के कार्यकाल में हमारे मुल्क का मान दुनियाभर में काफी बढ़ा है।

मोदी राज में बढ़ा भारत का मान
हमारे सर्वे के मुताबिक, 63 प्रतिशत भारतीयों का मानना ​​है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल के दौरान दुनिया भर में भारत का मान बढ़ा है। 23 फीसदी लोगों के मुताबिक ऐसा नहीं हुआ है, जबकि सर्वे में शामिल 14 फीसदी लोगों ने इस सवाल को कोई जवाब नहीं दिया।

मोदी राज में भारत बना दुनिया का सरताज
बात सिर्फ देश का मान बढ़ने की नहीं है, बल्कि थोड़े से ज्यादा लोग मानते हैं कि यह वक्त भारत ही दुनिया का सरताज है, क्योंकि सबसे तेजी से बढ़ती इंडस्ट्री में हमारा शुमार होने लगता है। लार्ज-लार्ज मुल्क हम सभी समझौते और डील करने के लिए सहमत हो जाते हैं। सर्वे में पूछे गए सवालों के जवाब में 54 प्रतिशत उत्तरदाताओं के अनुसार यह कथन कतई सही है। इससे हटकर 27 फीसदी का कहना है कि ऐसा नहीं हुआ, जबकि 19 फीसदी लोगों ने इसके जवाब में कुछ भी नहीं कहा।

vck9b7v8

विदेशी निवेश के लिए आकर्षित करने वाला गंतव्य भारत है
जब बात तेजी से बढ़ती हुई उद्योग की हो जाती है, तो विदेशी निवेश के बिना उसकी कल्पना करना कठिन हो जाता है। इस मुद्दे पर सरकार के प्रदर्शन की समीक्षा करने वालों से शेयर से ज्यादा यानी 55 प्रतिशत का कहना था कि विदेशी निवेश के लिए भारत सबसे आकर्षक देश है। 18 फीसदी लोगों ने इस पर कोई जवाब नहीं दिया, जबकि 27 प्रतिशत के मुताबिक भारत विदेशी निवेश आकर्षित करने के लिए आकर्षण डेस्टिनेशन नहीं है।

5qji979o
v9esp1उदा

चीन से रिश्तों में मोदी सरकार का प्रदर्शन
विकसित देशों के साथ भारत के संबंध और संबंध संबंधों में भारतीय स्थिति में सुधार अधिकतर लोगों को दिखाई दे रहा है, लेकिन अपने पड़ोसियों की तरफ से पेश की जा रही परेशानी से भारत किस तरह पासपोर्ट पा रहा है। इसे किए गए किए गए सवाल पर भी मिली-जुली राय सामने आई। चीन के साथ रिश्तों को संभालने और प्लगइन के मामले में मोदी सरकार के प्रदर्शन को जहां 28 प्रतिशत लोग ‘बुरा’ कह रहे थे। वहीं, 29 प्रतिशत ने मोदी सरकार के प्रदर्शन को ‘अच्छा’ बताया। 13 प्रतिशत लोगों को चीन से संबंधों में केंद्र सरकार का प्रदर्शन ‘औसत’ लगा। यानी 52 फीसदी लोग ऐसे रहे, चीन से जुड़े मामलों में भारत सरकार का प्रदर्शन बुरा नहीं लगा।

rvjimrlg

पाकिस्तान से रिश्तों में मोदी सरकार का प्रदर्शन
भारत का चिर-प्रतिद्वंद्वी पड़ोसी पाकिस्तान से हमेशा परेशानी पैदा करता है। बात चाहे कश्मीर घाटी में फैलाना की हो या आतंकवादी हमलों की, पाकिस्तान हमेशा से ‘दुश्मन’ देश सरीखा व्यवहार ही करता रहा है। यही नहीं, पाकिस्तान ही एकमात्र मुल्क है, जिसके साथ आज़ादी के बाद से अब तक हिन्दुस्तान को चार बार जंग भी लड़नी पड़ी है। चारों ओर पाकिस्तान ने मुंह की बे है। तो, पाकिस्तान से संबंधों को लेकर मोदी सरकार के प्रदर्शन पर भी सर्वे में सवाल किया गया, जिसके जवाब में 28 प्रतिशत लोगों ने भारत सरकार के प्रदर्शन को ‘सही’ बताया। जबकि 13 प्रतिशत सरकार का प्रदर्शन औसत लगा। 30 फीसदी लोग पाकिस्तान के मुद्दों पर मोदी सरकार के कामकाज से नाखुश दिखे, जबकि 29 फीसदी ने इस सवाल का कोई जवाब नहीं दिया।

8एचएनएलबीपी18

मोदी राज में मिल रहा है भारतीय कला-संस्कृति को सम्मान
इन सभी सवालों के बीच सर्वे ‘पब्लिक ओपिनियन’ में यह भी पूछा गया था कि क्या मोदी सरकार के काल में दुनिया भर में भारतीय कला और संस्कृति को सम्मान मिल रहा है। इस पर भी 59 प्रतिशत जनता की राय सरकार के पक्ष में दिखती है। 24 प्रतिशत ने कहा, भारतीय कला-संस्कृति को सम्मान नहीं मिल रहा है, जबकि 17 प्रतिशत ने इस सवाल का जवाब देने से परहेज किया।

कैसे किया गया सर्वे?
एनडीटीवी और लोकनीति – सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ डेवलपमेंट सोसाइटीज (सीएसडीएस) ने यह सर्वे भारत के 19 राज्यों के 71 जिलों में किया, जिसके तहत कुल 7,000 से अधिक लोगों से अलग-अलग मुद्दों पर सवाल-जवाब किए गए। 10 से 19 मई, 2023 के बीच किए गए इस सर्वे में शिरकत करने वालों में समाज के सभी झपकी के रैंडमली फिर गए लोग शामिल हुए।

ये भी पढ़ें:-

NDTV-CSDS सर्वे: हर तीसरा शख्स बोला- 4 साल में बेहतर हुई आर्थिक स्थिति, 22% मानते हैं, खराब हुई माली हालत

एनडीटीवी-सीएसडीएस सर्वे : पीएम नरेंद्र मोदी ही आज भी पहली पसंद हैं, बीजेपी का वोट शेयर भी टिका है

NDTV-CSDS सर्वे : ED-CBI पर बंटवारा हुआ राय, 37% लोगों ने माना- कानून के मुताबिक काम कर रही एजेंसियां

NDTV-CSDS सर्वे : मोदी सरकार के काम से 55% हिन्दुस्तानी नाराज़ नहीं, 47% ने कहा- कहा है विकास

NDTV-CSDS सर्वे : पीएम के तौर पर मोदी पहली पसंद, राहुल गांधी की लोकप्रियता से जुड़ी बातें, लेकिन पीएम मोदी से कोस दूर

[ad_2]