मुरुगा मठ मामला : पीड़ित वकील को वकालतनामा की वैधता पर एक सप्ताह का समय मिलता है – दिल्ली देहात से


इस तरह के स्टेटमेंट श्रीनिवास हरीश कुमार की बात ने की। (फोटो फोटो)

बैंगलोर:

कर्नाटक उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों के संबंध में पेश होने वाले वकील के वकील का समय ‘वकालतनामा’ के वकील के रूप में होता है। मुख्य पेसर शिवर्ति मुरुगा शरणारू ने परिवादी की ओर से

यह भी आगे

कामुकता से चलने के व्यवहार (पॉक्सो) में संक्रमित के व्यवहार के मामले में मि. चित्र दुर्ग के मुरुगा मिठू मिठाइयाँ एक बार फिर से कार्य करने के लिए प्रेरित हों।

पेसर की ओर से नर्स की ओर से नर्स की ओर से ‘वकालत’ की वैध पर सवाल किया गया। इस तरह के स्टेटमेंट श्रीनिवास हरीश कुमार की बात ने की।

पेसर के वकील गणेश मोहनबल ने ऐसा किया है, जैसा कि यह दावा करने वाला है कि वैभव में ऐसा नहीं है। दी है।

इसलिए उच्च न्यायालय ने न्यायाधीशों के लिए आवेदन करने का समय और समय एक ठहरने का दिया। .

यह भी –
— “स्‍पटा पर लड़कियों की नीलामी”: राजस्‍तान की घटना की जांच एनसीडब्ल्यू की टीम
— सोशल मीडिया पर सोशल मीडिया पर चर्चा करें

(खबर ने कहा है)