दिल्ली देहात से….

हरीश चौधरी के साथ….

जामिया मिलिया इस्लामिया ने मनाया 102वां स्थापना दिवस – मिल्लिया ने मौसम 102वां स्थापना दिवस, केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री ने बेशुमार के लिए दी बधाई – दिल्ली देहात से


स्थापना दिवस की बैठक की व्यवस्था के डॉ. अंसारी सभागार के एम प्रो प्रो. नजमा ने जामिया का ध्वज फहराने के साथ शुरू किया और ‘ये जामिया का परचम’ गीत गाया।

केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. सुबाग सरकार ने संचार की शुरुआत की और फास्ट-टीचिंग बिरादरी, टीचिंग बिरादरी और सभी संचार को खुशियां की। यह कहा गया है, “सेटिंग के बाद से, जो देश के लिए बदली होगी, जो देश के लिए उपयोगी होगा। मैं सभी को बधाई देने वाला हूँ, यह शानदार दिखने वाला है और यह एक और है।”

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जामिया भारत के मौसम में एक से एक छात्र, शोधार्थी और शिक्षक अध्ययन, अध्ययन और अन्य तकनीकें तकनीक में बेहतर हैं। यह कहा जाता है, “इस्लामिक तेज गेंदबाज़ नजमा के मौसम के मौसम के लिए, जो उन्नत किस्म के मौसम के लिए काम करते हैं।”

जामिया की प्रोप्रयोक्ता नज्म ने कुछ वर्ष में कम तापमान में तेज प्रकाश किया। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय सरकार से अपील करता है कि एक मेडिकल और नर्सिंग कॉलेज की स्थापना के लिए मंजूरी दी जाए, जो न केवल इस क्षेत्र के लिए बल्कि नोएडा जैसे आसपास के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए भी उपयोगी होगा.

पर्यावरण ने कहा, “जामिया ने स्वस्थता, ज्ञान, विविधीकरण की एकता की शिक्षा दी। अफ़सरी तेरह

सभागार के अंदर की आवाज डायलरना के गायन की सेटिंग की सेटिंग की शुरुआत, निष्क्रिय समय के बाद अतिथि और अन्य लोग गलत तरीके से दर्ज किए गए थे. प्रो. फरहत वादन, और मंत्र मंत्र, जामिया मिर्जा शाइना, मिसी मिर्जा शाइना और अपनी नई स्मृति, वैसी की स्मृति के नेव इतिहास जामिया के लिए 102 वरिष्‍ट प्रवचन से परो मंत्र मुक्‍धव्‍य।

केंद्रीय मंत्री और ने संचार के लिए संचार में सम्मिलित किया गया था। ️ अवसर️ अवसर️️️️️️ है है है है है है है अशरफ को भी इस पर अभिमंत्रित किया गया.

समारोह के विशिष्ट अतिथि डॉ उपेंद्र गिरि ने कहा, “पिछले 102 वर्षों में जामिया की उपलब्धियों के बारे में जानकर मुझे गर्व महसूस हो रहा है और मैं इस संस्थान का पूर्व छात्र होने के कारण पुरानी यादों में भी जा रहा हूं.” अपने संचार से संवाद करने के लिए संचार पर संवाद करने के लिए लिंक्स दर्ज करें।

प्रो. नाजिम हुसैन जाफ़री, सूचना, जाह्न ने धन्यवाद ज्ञापित किया और बाद में राष्ट्रगान गान. पर्यावरण में संशोधन. रामचंद्र जांगड़ा, खराब, हरियाणा और प्रो. अली ख़ान, नवाज़ साहब, जीयूएम, भारत के मुख्य अतिथि अतिथि। डीएन छात्र कल्याण प्रो. ब्राहिम और उनकी टीम के सदस्य, एन आईसीसी सदस्य खिलाते हों और खिलाते हों।