दिल्ली देहात से….

हरीश चौधरी के साथ….

गणेश जयंती 2023: गणपति को चढ़ाएं धन, समृद्धि और सफलता के लिए आज ये 5 चीजें – गणेश जयंती 2023: आज है गणेश जयंती, इन 5 भोग को भरने पर प्रसन्न होंगे गणपति बप्पा -दिल्ली देहात से

गणेश भोग: गणेश जयंती पर चढ़ें बप्पा को ये भोग।

गणेश जयंती 2023: माघ माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को गणेश चतुर्थी मनाई जाती है। इस दिन बुधवार है और अद्भुत संयोग भी बन रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि बुधवार (बुधवार) के दिन को गणेश भगवान का दिन ही कहा जाता है। धार्मिक बंधुता की संधि तो हर दिन को किसी ना किसी देवी-देवता को समर्पित किया जाता है, जैसे सोमवार के दिन भोलेनाथ का पूजन किया जाता है तो शुक्रवार के दिन महालक्ष्मी की पूजा है। गणेश जयंती के दिन रवि योग, शिव योग और परिघ योग बन रहे हैं। इस दिन यदि बप्पा को उनकी पसंद का भोग दिया जाए तो मान्यता के अनुसार विशेष कृपा प्राप्त होती है।

यह भी पढ़ें

Surya Gochar 2023: आने वाली 13 फरवरी मकर राशि में जीतेंगे सूर्य देव, इन 3 राशि वालों की चमकेगी किस्मत

गणेश जयंती पर पूजा | गणेश जयंती पूजा

गणेश जंयती पर पूजा का शुभ महूर्त (शुभ मुहूर्त) सुबह 11 बजकर 29 मिनट से दोपहर 12 बजकर 34 मिनट तक बताया जा रहा है। वहीं, सूर्य योग की बात करें तो सुबह 7 बजकर 10 मिनट से ही सूर्य योग लग जाएगा जो रात 8 बजकर 5 मिनट तक रहने वाला है।
बुधवार के दिन गणेश भगवान (भगवान गणेश) के पूजन की बात करें तो मान्यता के अनुसार जब माता पार्वती ने गणेश भगवान को दिए गए प्राण दिए तो उस समय कैलाश पर्वत पर बुध देव उपस्थित थे, इसी बुधवार के दिन को भगवान गणेश की पूजा की जाती है।

गणेश जयंती पर भोग

  1. जोतेब है कि भगवान गणेश को मोदक (मोदक) प्रिय हैं। ऐसे में गणेश जी के इस मनपसंद व्रत को गणेश जयंती के दिन भोग चढ़ाया जा सकता है।
  2. गणेश भगवान को भोग में मखाने की खीर भी रवाना किया जा सकता है। इस भोग को धन, संपत्ति और अचल संपत्ति में बरकत के लिए चढ़ाया जाता है।
  3. बेसन और पर्लचूर के लड्डू भी भोग में चढ़ाए जा सकते हैं, इस प्रसाद को घर के लोग भी चाव से खाएंगे।
  4. श्रीखंडों में भी भगवान गणेश को चढ़ाया जा सकता है। इस श्रींखड में केसर जरूर डालें। केसर वाले श्रीखंडों को भोग में लगाने से ज्यादा अच्छा होता है।
  5. केला भी भोग में लगाने के लिए अच्छा है। लेकिन, गणपति बप्पा (Ganpati Bappa) के अलग-अलग केले को अकेले नहीं बल्कि जोडों में निरंकुश करें.

(अस्वीकरण: यहां दी गई जानकारी सामान्य सट्टेबाजी और जानकारियों पर है। एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है।)

दिन का विशेष रुप से प्रदर्शित वीडियो

बुलियन की देरी में लूट, ईडी के अधिकारियों ने जैसे अपराधियों ने घटना को अंजाम दिया